What is Internet notes in Hindi

Introduction to Internet in Hindi

कम्प्यूटर नेटवर्क के बारे में अधिक जानने के लिए देखें—Computer Networks and its Types

इंटरनेट शब्द का विस्तृत रूपInterconnected Network  होता है। यह दुनिया भर के बहुत सारे कम्प्यूटरों एवं क्म्प्यूटर नेटवर्को को जोड़कर बनाया गया कम्प्यूटरों का एक विश्वव्यापी सबसे विशाल नेटवर्क है। इसी कारण इसेनेटवर्को का नेटवर्क (Network of Networks) भी कहते है।इन्टरनेट का अविष्कार दुनिया भर के लोगो के मध्य आपसी संचार ( Communication) अर्थात् सूचनाओं एवं संदेशों के आदान-प्रदान के लिए किया गया है।

इसकी सहायता से एक व्यक्ति जिसके कम्प्यूटर पर इन्टरनेट कनेक्शन उपलब्ध है, दुनिया के किसी भी कोने में स्थित दूसरे व्यक्ति जिसके कम्प्यूटर पर भी इन्टरनेट कनेक्शन उपलब्ध है संपर्क कर सकता है और text, image, audio, video आदि के रूप में सूचनाओं एवं संदेशों का आदान-प्रदान कर सकता है। आज इन्टरनेट के माध्यम से सभी प्रकार की सूचनाओं को विश्व के किसी भी  कोने से किसी भी कोने में केवल कुछ सेकण्ड्स में ही भेजा जा सकता है। इण्टरनेट के कारण आज विश्व एक छोटे से ग्राम की भाँति बन गया है।हम घर बैठे ही पूरे विश्व की खबर रख सकते है। इसी कारण ही आज के विश्व को एक Global Village कहा जाता है तथा आज के युग को Age of Information या Age of Computers की संज्ञा दी जाती है।

What is Internet notes in Hindi

Data Communication क्या होता है इसके बारे में जानने के लिए देखें—Data Communication

WWW

WWW का पूरा नाम World Wide Web है। इसे W3या WEB भी कहा जाता है।यह इन्टरनेट का सबसे लोकप्रिय एवं सबसे बड़ा सर्विस है। इसका विकास सन् 1990 के दशक तक टीम बर्नर्स ली ने किया था। WWW   बहुत सारेवेब सर्वर्स का एक collection होता है जिसके प्रत्येक सर्वर में information load   होता है जो text, image, audio, video आदि के रूप में हो सकता है। कोई भी व्यक्ति जिसके पास इन्टरनेट कनेक्शन उपलब्ध है वह WWW से अपनी जरूरत की सूचनाओं को access करकेदेख,पढ़ तथा सुन सकता है और आवश्यकता पड़ने पर अपने कम्प्यूटर में डाउनलोड भी कर सकता है।

E-Mail

E-Mail का पूरा नाम Electronic Mail होता है। यह कम्प्यूटर के द्वारा भेजी जा सकने वाली इलेक्ट्रॉनिक डाक सेवा है। यह इक ऐसी इलेक्ट्रॉनिक प्रक्रिया है जिसकी सहायता से बड़ी मात्रा में सूचनाओं को प्रकाश की गति से भेजा एवं प्राप्त किया जा सकता है। इसकी सहायता से हम text, image, audio, video आदि सभी प्रकार की सूचनाओं का आदान-प्रदान कर सकते है। E-Mail का विकास सर्वप्रथम अमेरिकी वैज्ञानिक आर.टोमलिंसन ने 1971 में किया था। आज बहुत से ऐसे कम्पनियाँ  है जो हमें इन्टरनेट पर E-Mail सेवा प्रदान करते है इनमें से Google, Yahoo, Rediff का नाम सर्वाधिक प्रचलितहै। Google कम्पनी द्वारा प्रदान किए जाने वाले E-Mail सेवा को Gmail कहा जाता है। यह एक निःशुल्क E-Mail सेवा है जिसका उपयोग दुनिया का कोई भी व्यक्ति कर सकता है। इस सेवा का उपयोग करने के लिए हमें सबसे पहले www.gmail.comपर जाकर अपना एक एकाउंट बनाना पड़ता है। एकाउंट बनाने की प्रक्रिया में हम www.gmail.com द्वारा हमारे बारे मांगी गई आवश्यक सूचना जैसे— नाम, जन्मदिन, मोबाईल नम्बर, मेल/फीमेल आदि देते है तथा कम्पनी के terms एवं conditions को स्वीकार कर अपने एकाउंट के लिए username और password का निर्धारण करते है।एक बार सफलतापूर्वक एकाउंट बना लेने के बाद हम कभी भी www.gmail.com पर जाकरusername और password की सहायता सेGmail सेवा का उपयोग करते हुए निःशुल्कE-Mail   कर सकते है।

Share it to:

Published by

admin

I am a computer teacher, programmer and web developer