Access Specifiers Modifiers or Visibility Levels in C++ in Hindi

What are Access Specifiers or Visibility Levels in C++ in Hindi

C++ में Class और Object क्या होता है इनका प्रोग्राम कैसे लिखते है जानने के लिए देखें—Class and Object

C++ में Access specifiers का प्रयोग class के members के लिए access permission निर्धारित करने के लिए किया जाता हैं। इसमें private, public व protected ये तीन तरह के access modifier होते हैं। इन तीनों keywords का प्रयोग करके ही हम class के members को private, public व protected declare करते है। इस प्रकार access specifier यह निर्धारित करते हैं कि class के members को किसी बाहरी function के द्वारा access किया जा सकता हैं कि नहीं। Access specifiers को access modifiers या visibility levels भी कहा जाता हैं।

  1. Private access specifier
  2. Protected access specifier
  3. Public access specifier
Access Specifiers Modifiers or Visibility Levels in C++ in Hindi

Private access specifier

Private access specifier के अंर्तगत declare किए गए members को केवल उसी class के functions के द्वारा ही access किया जा सकता है। ये किसी बाहरी function के access से सुरक्षित होते हैं। इसके अंतर्गत declare किया गया डेटा किसी बाहरी function से पूर्णतः छुपा हुआ व सुरक्षित रहता है।

Protected access specifier

Protected  access specifier के अंर्तगत declare किए गए members को भी बाहरी functions के द्वारा access नहीं किया जा सकता किन्तु इसके immediate derived class के function इन्हें access कर सकते हैं। इसमें डेटा private से कम किन्तु public से अधिक छुपा हुआ रहता है।

Public access specifier

Public access specifier के अंर्तगत declare किए गए members को किसी भी बाहरी class के functions के द्वारा access किया जा सकता हैं। इसलिए इसमें सामान्यतः functions को ही declare किया जाता है तथा data को private एवं protected में declare किया जाता हैं। इसमें डेटा बाहरी functions से छुपा हुआ नहीं रहता है।

Object Oriented Programmings (OOPs) के विभिन्न Concepts को जानने के लिए देखिए हमारा यह पोस्ट—Concepts of OOP

Share it to: