Analog and Digital Modulation in Hindi

Introduction to Analog and Digital Modulations in Hindi

Communication एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें डेटा एवं सूचनाओं को Message Signal में परिवर्तित करके Sender से Receiver तक पहुँचाया जाता है। इस प्रक्रिया में जब Message Signal Transmission Media से होते हुए जाते है तो उनकी Strength कम होते जाती है। इससे डेटा व सूचनाएँ पूर्ण रूप से एवं पूर्ण शुद्धता के साथ Sender से Receiver तक नहीं पहुँच पाता है। इस समस्या से बचने के लिए Modulation का प्रयोग किया जाता है। Data Communication के बारे में अधिक जानने के लिए देखें—Data Communication

Modulation एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें Message Signal को High Strength के Carrier Signal के साथ Superimpose किया जाता है। इसमें Carrier Signal के Parameters को Message Signal के अनुसार परिवर्तित किया जाता है। इससे Message Signal की Strength बढ़ जाती है और वह अधिक दूरी तय करने में सक्षम हो जाता है। Signal के अनुसार Modulation निम्नलिखित दो प्रकार के होते है—

Types of Modulation in Hindi
Types of Modulation

Analog Modulation

Analog Modulation में Analog Signal का प्रयोग Carrier Signal के रूप में किया जाता है जो Message Signal को Modulate करता है। Parameter के अनुसार यह निम्नलिखित तीन प्रकार का होता है—

Amplitude Modulation

Amplitude Modulation में Carrier Signal के Amplitude को Message Signal के अनुसार परिवर्तित किया जाता है।

Frequency Modulation

Frequency Modulation में Carrier Signal के Frequency को Message Signal के अनुसार परिवर्तित किया जाता है।

Phase Modulation

Phase Modulation में Carrier Signal के Phase को Message Signal के अनुसार परिवर्तित किया जाता है।

Digital Modulation

Digital Modulation में Digital Signal का प्रयोग Carrier Signal के रूप में किया जाता है जो Message Signal को Modulate करता है। Parameter के अनुसार यह निम्नलिखित तीन प्रकार का होता है—

Amplitude Shift Keying

Amplitude Shift Keying में Carrier Signal के Amplitude को Message Signal के अनुसार परिवर्तित किया जाता है।

Frequency Shift Keying

Frequency Shift Keying में Carrier Signal के Frequency को Message Signal के अनुसार परिवर्तित किया जाता है।

Phase Shift Keying

Phase Shift Keying में Carrier Signal के Phase को Message Signal के अनुसार परिवर्तित किया जाता है।

I-Facts (Interesting facts about Amplitude, Frequency and Phase Modulations)

  1. दूरदर्शन के प्रसारण, TV, Satellite जैसे Broadcasting में Amplitude Modulation का प्रयोग किया जाता है।
  2. कम्प्यूटर नेटवर्क में Phase Modulation का प्रयोग किया जाता है। इसके अतिरिक्त Digital Synthesizers में भी Phase Modulation का प्रयोग किया जाता है।
  3. रेडिया के प्रसारण में Frequency Modulation व Phase Modulation का प्रयोग किया जाता है। इसके अतिरिक्त Telemetry, Radar, Music Synthesis आदि में भी Frequency Modulation का प्रयोग किया जाता है।
  4. विभिन्न प्रकार के Communication Signals के बारे में जानने के लिए देेखें—Signals and its Types
Share it to: