Memory Storage Devices in Hindi

Memory या Storage वह डिवाइस है जिसमें कम्प्यूटर के डेटा, रिजल्ट व निर्देश स्टोर होते है। इस प्रकार हम इनपुट डिवाइस से जो भो डेटा एंटर करते है तथा प्रोसेसिंग के पश्चात् जो भी परिणाम प्राप्त होता है वह सब मेमोरी में स्टोर होता है। कम्प्यूटर की मेमोरी में स्टोर डेटा बहुत ही सुरक्षित होता है। इसे हम लंबे समय तक स्टोर करके रख सकते है और कभी भी जरूरत पड़ने पर वैसा का वैसा ही प्राप्त कर सकते है।

मेमोरी में स्टोर किया गया डाटा 0 या 1 के रूप में परिवर्तित हो जाता है। 0 तथा 1 को संयुक्त रूप से Binary Digit (Bit) कहा जाता हैं| यह बिट कंप्यूटर की मेमोरी को मापने की सबसे छोटी इकाई होती हैं। 8 Bit मिलकर 1 Byte बनाते है जो एक Character (Letter, Digit, Symbol) को स्टोर करने के लिए आवश्यक मेमोरी होता है। कम्प्यूटर की मेमोरी को मापने के विभिन्न Units निम्नलिखित होते है—

Memory Measurement Units
Fig. Memory Measurement Units

कम्प्यूटर में अलग-अलग उद्देश्य के लिए अलग-अलग प्रकार के मेमोरी का प्रयोग किया जाता है। इसमें प्रयोग मेमोरी डिवाइसों को हम निम्नलिखित प्रकारों में विभाजित कर सकते है—

Memory and Storage Devices notes in Hindi
Fig. Memory and Storage Devices of Computer

Primary Memory

Primary Memory Device कम्प्यूटर का Main Memory होता है जहा डेटा व निर्देश प्रोसेसिंग के दौरान स्टोर रहते है। इसमें स्टोर डेटा व निर्देशों को आवश्यकता पड़ने पर प्रोसेसर तुरंत प्राप्त कर सकता है। यह अस्थायी मेमोरी होता है क्योकि इसमें स्टोर डेटा कम्प्यूटर बंद होने या बिजली चले जाने पर डिलिट हो जाता है। इसीलिए इसे Volatile मेमोरी भी कहा जाता है। इसकी स्टोर क्षमता सेकेण्डरी स्टोरेज की तुलना में कम होती है किन्तु गति अधिक होती है।

Secondary Storage

Secondary Storage Device को Auxiliary Storage Device भी कहा जाता है। इसमें जो डेटा स्टोर किया जाता है वह स्थायी होता है अर्थात् कम्प्यूटर बंद होने पर इसमें स्टोर डेटा डिलिट नही होता है। इसीलिए इसे Non-Volatile मेमोरी भी कहा जाता है और इसका प्रयोग डेटा को भविष्य में उपयोग के लिए स्टोर करने के लिए किया जाता है। सेकेण्डरी स्टोरेज में डेटा फाईल के रूप में सेव होता है जिसका एक नाम होता है। इसकी स्टोरेज क्षमता प्रायमरी मेमोरी की अपेक्षा कई गुना अधिक होता है किन्तु इसकी गति कम होता हैं।

Share it to:

Published by

admin

I am a computer teacher, programmer and web developer