Data Types in C++ In Hindi

Introduction to various Data Types used in C++ In Hindi

C++ के बारे में अधिक जानने के लिए देखें—Brief Introduction of C++

Data type is a well defined collection of data (values). In any program variables are used to store data. These variables are associated with a particular data type which determines what type and upto what range of data can be stored in it and what operations can be performed. C++ Language has following three types of data type:

Data Type, data (values) का सुपरिभाषित (well defined) संग्रह होता है। किसी भी प्रोग्राम में data को स्टोर करने के लिए variables का प्रयोग किया जाता है। ये variable किसी विशेष data type से संबंधित होते है जो यह निर्धारित करता है कि इन variables में किस type का एवं कितने range तक का data स्टोर किया जाता सकता है और क्या-क्या operations किए जा सकते है। C++ Language में निम्नलिखित तीन प्रकार के data types होते है—

  1. Fundamental Data Types – int, char, float, double, void
  2. Derived Data Types – array, function, pointer
  3. User Defined Data Types – class, struct, union, enum, typedef

C++ के विभिन्न Operators को जानने के लिए देखें—Operators in C++

Fundamentals Data Types

Fundamentals data types are also called built in data types or primitive data types. They are used to store characters, integers and decimal numbers. They have following five types:

Fundamentals data types को built in data types या primitive data types भी कहा जाता है। इनका प्रयोग अक्षरों, पूर्णांक संख्याओं एवं दशमलव संख्याओं को स्टोर करने के लिए किया जाता है। ये निम्नलिखित पाँच प्रकार के होते है—

Character

Character data type is used to store single character such as ‘A’, ‘5’, ‘+’ etc. The char keyword is used to create variable of this data type. It occupies 1 byte in memory and ranges from -128 to 127.

Character data type का प्रयोग एक अक्षर जैसे— ‘A’, ‘5’, ‘+’ आदि को स्टोर करने के लिए किया जाता है। इस data type का variable बनाने के लिए char keyword का प्रयोग करते है। यह मेमोरी में 1 byte का स्थान लेता है और इसका range -128 से 127 तक होता है।

C++ के Character Set के बारे में जानने के लिए देखें—Character Set of C++

Integer

Integer data type is used to store store integers such as 5, 0, -86 etc. The int keyword is used to create variable of this data type. It occupies 2 byte in memory and ranges from -32768 to 32767.

Integer data type का प्रयोग पूर्णांक संख्याओं जैसे— 5, 0, -86 आदि को स्टोर करने के लिए किया जाता है। इस data type का variable बनाने के लिए int keyword का प्रयोग करते है। यह मेमोरी में 4 byte का स्थान लेता है और इसका range -32768 से 32767 तक होता है।

Float

Float data type is used to store store decimal numbers such as 40.25, 0.5, -82.49 etc. The float keyword is used to create variable of this data type. It occupies 4 byte in memory and ranges from 3.4 × 10-38 to 3.4 × 1038

Float data type का प्रयोग दशमलव संख्याओं जैसे— 40.25, 0.5, -82.49 आदि को स्टोर करने के लिए किया जाता है। इस data type का variable बनाने के लिए float keyword का प्रयोग करते है। यह मेमोरी में 4 byte का स्थान लेता है और इसका range 3.4 × 10-38 से 3.4 × 1038 तक होता है।

C++ में Tokens क्या होता है जानने के लिए देखें—Tokens in C++

Double

Double data type is used to store very large or very small decimal numbers. The double keyword is used to create variable of this data type. It occupies 8 byte in memory and ranges from 1.7 × 10-308 to 1.7 × 10308

Double data type का प्रयोग बहुत बड़े या बहुत छोटे दशमलव संख्याओं को स्टोर करने के लिए किया जाता है। इस data type का variable बनाने के लिए int keyword का प्रयोग करते है। यह मेमोरी में 8 byte का स्थान लेता है और इसका range 1.7 × 10-308 से 1.7 × 10308 तक होता है।

Void

In C++ Language void keyword represents a special data type. Void means nothing or empty. As its name suggest it is not used to store any data. Therefore it is also called empty data type. It does not occupy any space in memory. It is generally used with functions and pointers. When a function does not return any values or does not take any argument then we declare it void.

C++ Language में void keyword एक विशेष data type को दर्शाता है। Void का अर्थ कुछ भी नहीं या खाली होता है। अपने नाम के अनुसार इसका प्रयोग किसी प्रकार के डेटा को स्टोर करने के लिए नहीं किया जाता है। इसीलिए इसे empty data type भी कहा जाता है। यह मेमोरी में कोई स्थान नहीं लेता है। इसका प्रयोग सामान्यतः functions एवं pointers के साथ किया जाता है। जब कोई function कोई value return नहीं करता है या कोई argument नहीं लेता है तो हम उसे void declare करते है। उदाहरण—

void main(void)          void display (void)
{                  	 {
      ------;                    ------;
      ------;                    ------;
      ------;             	 ------;
}                  	 }

C और C++ में प्रमुख अंतर क्या है जानने के लिए देखें—C vs C++

Fundamental Data Types in C++ in Hindi
Fundamental Data Types in C++

Basic example programs in C++

  1. Sum of two entered numbers
  2. Average of three entered numbers
  3. Simple interest
  4. Total and Percent
  5. Swapping values of two variables
  6. Swapping without using third variable
  7. Celsius to Fahrenheit conversion
  8. Find area and circumference of circle
Share it to:

Tokens in C++ in Hindi

What are Tokens in C++ in Hindi

C++ के Character Set के बारे में जानने के लिए देखें—Character Set of C++

Tokens are basic building blocks of C++ program. They are made of single character or group of characters. They are recognized as a basic meaningful unit of C++ program by C++ compiler while translating the source code into machine code. They cannot be divided into more meaningful units. C ++ language has following types of tokens:

C++ के बारे में अधिक जानने के लिए देखें—Brief Introduction of C++

Token C++ program के basic building blocks होते है। ये एक character या character के समूह के बने होते है।  इन्हें C++ Compiler के द्वारा source code को machine code में translate करते समय प्रोग्राम के basic meaningful unit के रूप में पहचाना जाता है। इन्हें और अधिक meaningful unit में विभाजित नहीं किया जा सकता है। C++ Language में  निम्नलिखित प्रकार के tokens होते है—

Tokens in CPP in Hindi

Keywords

Keywords are predefined words for performing various tasks in C++. They are also called reserved words or commands of C++. They are always written in small letters. There are total 32 keywords in C++.

C++-Language में विभिन्न प्रकार के कार्यो को करने के लिए पहले से बने शब्दों को Keywords कहते है। इन्हें reserved words या C++ के commands भी कहा जाता है। इन्हें सदैव small letters में ही लिखा जाता है। C++ Language में कुल 32 keywords है।

Following are the complete list of keywords:
auto, double, int, struct, break, else, long, switch, case, enum, register, typedef, char, extern, return, union, const, float, short, unsigned, continue, for, signed, void, default, goto, sizeof, volatile, do, if, static, while.

C और C++ में प्रमुख अंतर क्या है जानने के लिए देखें—C vs C++

Identifiers

Identifiers are new words created by us for storing data and performing special tasks in C++. They are actually the name given by us to the variables, arrays, structures, and functions. With the help of identifier we identifies our data within memory and able to use it in program.

Identifier डेटा को स्टोर करने और विशेष कार्यो को करने के लिए हमारे द्वारा बनाए गए नए शब्दों को कहा जाता है। वास्तव में ये एक नाम होते है जो हमारे द्वारा variables, arrays, structures और functions को दिए जाते है। Identifier की सहायता से ही हम अपने डेटा को मेमोरी में identify करते है और इसे प्रोग्राम में उपयोग कर पाते है।

Rules for creating identifier:

(a) Only alphabet (A-Z, a-z) and digits (0-9) are allowed for naming identifier.
केवल alphabet (A-Z, a-z) और digits (0-9) का प्रयोग ही identifier के नाम में किया जा              सकता है।
(b) Only special symbol underscore ( _ ) can be used in identifier name.
केवल एकमात्र special symbol underscore ( _ ) का प्रयोग ही identifier के नाम में किया          जा  सकता है।
(c) Identifier name must begin with alphabets or underscore not with digits.
Identifier का नाम alphabets या underscore से ही शुरू होना चाहिए digits से नहीं।
(d) Keywords can’t be used as identifier.
Keywords का प्रयोग identifier के रूप में नहीं किया जा सकता है।
(e) Two identifier with the same name is also not allowed.
एक ही नाम से दो identifier नहीं बनाए जा सकते है।

Following are some example of identifiers:

variables: a,b,c,num,sum,avg etc.
arrays: roll[5], sal[50] etc.
structures: student, employee etc.
functions: sum(), avg(), display() etc.

Constants

Constants refers to the fixed value that doesn’t change during execution of program. No matter where we use it in program, its meaning always remains same.

Constant एक fixed value होता है जो प्रोग्राम के execution के दौरान नहीं बदलता है। इससे फर्क नहीं पड़ता कि हम इसे प्रोग्राम में कहाँ प्रयोग कर रहे है, इसका अर्थ सदैव fix रहता है।

Following are some example of constants:
Integers: 5, 70, -31, 0 etc.
Floats: 23.45, 3.7, -66.78 etc.
Characters: ‘A’, ‘a’, ‘+’, ‘-‘ etc.
Strings: “A”, “a”, “Vijay”, “Kunal” ” “, “” etc.

Operators

Symbols that are used to perform operation between values or variables are called operators. They could perform various operations on values or variables such as calculation, comparison, decision and assignment etc.

वे symbols जिनका प्रयोग values या variables के बीच operation करने के लिए किया जाता है operator कहलाते है। ये values या variables पर बहुत प्रकार के operation जैसे—calculation, comparison, decision और assignment आदि कर सकते है।

Examples:

Arithmetic Operators: +, -, *, /, %
Relational Operators: <, >, <=, >=, ==, !=
Logical Operators: &&, ||, !
Assignment Operator: =

C++ के विभिन्न Operators को जानने के लिए देखें—Operators in C++

Strings


String is a group of characters which is enclosed within double quotes. It is also called array of characters. It is used to store data such name, class, mobile number, aadhar number, address etc. String is always terminated by a special character called null ‘\0’ which shows the end of string.

String characters के समुह को कहते है जिसे double quote के अंदर लिखा जाता है। इसे characters का array भी कहा जाता है। इसका प्रयोग नाम, क्लास, मोबाईल नंबर, आधार नंबर आदि डेटा को स्टोर करने के लिए किया जाता है। String के अंत में सदैव एक special character होता है जिसे null ‘\0’ कहते है जो string के अंत को सूचित करता है।

Examples:
name[20], address[50] etc.

Basic example programs in C++

  1. Sum of two entered numbers
  2. Average of three entered numbers
  3. Simple interest
  4. Total and Percent
  5. Swapping values of two variables
  6. Swapping without using third variable
  7. Celsius to Fahrenheit conversion
  8. Find area and circumference of circle
Share it to:

Character Set of C++ in Hindi

Character Set of C++ in Hindi

C++ के बारे में अधिक जानने के लिए देखें—Brief Introduction of C++

Any Letter, digit or special symbol that is used to represent information is called character. Set of all valid characters that is used to write source code of programs are called character set. Each programming language has its own character set to write its source code of programs. The character set of C++ contains following characters:

C और C++ में प्रमुख अंतर क्या है जानने के लिए देखें—C vs C++

कोई भी अक्षर, अंक या विशेष चिन्ह जिसका प्रयोग सूचनाओं को प्रदर्शित करने के लिए  किया जाता है character कहलाता है। उन सभी वैध characters के set को जिनका प्रयोग प्रोग्राम के सोर्स कोड को लिखने के लिए किया जाता है character set कहते है। प्रत्येक प्रोग्रामिंग भाषा का अपने प्रोग्राम के सोर्स कोड को लिखने के लिए स्वंय का character set होता है। C++ के character set में निम्नलिखित characters होते है—

POP और OOP में क्या अंतर होता है जानने के लिए देखें—POP vs OOP

Character Set of CPP in Hindi

OOP के विभिन्न Concepts जानने के लिए देखें—Concepts of OOP

Basic example programs in C++

  1. Sum of two entered numbers
  2. Average of three entered numbers
  3. Simple interest
  4. Total and Percent
  5. Swapping values of two variables
  6. Swapping without using third variable
  7. Celsius to Fahrenheit conversion
  8. Find area and circumference of circle

C++ में Tokens क्या होता है जानने के लिए देखें—Tokens in C++

Share it to:

Basic Concepts of OOPs in Hindi

Introduction to some Basic Concepts of OOPs in Hindi

Object Oriented Programmings (OOPs) वर्तमान में प्रोग्रामिंग करने का सबसे नया Approach है। इसकी कुछ महत्वपूर्ण और मूलभूत अवधारणाएँ निम्नलिखित है—

Object Oriented Programmings (OOPs) is currently the newest Approach to do programming. Following are some important and basic concepts of OOP:

POP और OOP में क्या अंतर होता है जानने के लिए देखें—POP vs OOP

Basic Concepts of Object Oriented Programmings OOPs in Hindi

Object

Objects are the model of entities related to the problem. They are actually the group of data and functions. They are also called basic run time entities in object oriented system. They represents real world entities of problem such as student, customer, products program has to handle. In real world each entity has some data and some functions. For example if the entity is a student then data would be name, marks, percent etc. and functions would be getdata, putdata etc. The data of one object can only be accessed by the functions of that object. However the functions of one object can be accessed by the functions of another object. Thus in OOP data are hidden from outside objects and remains secure.

Object समस्या से संबंधित entities के model होते है। वास्तव में object संबंधित data व functions के समूह होते है। इन्हें object oriented system में basic run time entities भी कहते है। ये समस्या के वास्तविक दुनिया के entities जैसे—student, customer, products को represent करते है जिन्हें प्रोग्राम को handle करना होता है। वास्तविक दुनिया में प्रत्येक entity के कुछ न कुछ data व functions होते है। उदाहरण के लिए यदि entity कोई student है तो name, marks, percent आदि इसके data हो सकते है तथा getdata, putdata आदि इसके function हो सकते है। एक object के अंतर्गत आने वाले data को केवल उसी object के functions के द्वारा ही access किया जा सकता है। किन्तु एक object के अंतर्गत आने वाले functions को दूसरे object के functions के द्वारा भी access किया जा सकता है। इस प्रकार OOP में data बाहरी object से छिपा हुआ व सुरक्षित रहता है।

Object creation syntax:

class_name object_name;

Object creation example:

student s1;
Representation of Object in OOPs in Hindi
Fig. Representation of Object

Class

Class is a user-defined data type and objects are the variable of type class. We know that In object oriented system for solving problem we first create model of entities related to the problem called objects. But before creating objects we need to define class for that objects. Once a class has been defined we can create any number of objects belonging to that class. Each object has a set of data and functions of type class to which they are belonged. All data and function defined within class are called member of that class. Class definition is generally divided into two section: private and public. We generally declare data in private section and functions in public section but it is not necessary. One important thing to be notice here is that when we define class there no memory is allocated for members of class. Memory is allocated for members only when we create objects of that class and it allocated for each object separately.

Class एक user-defined डेटा टाईप होता है और objects class type के variable होते है। हम जानते है कि object oriented system में समस्या को हल करने के लिए सबसे पहले हम समस्या से संबंधित entities का मॉडल बनाते जिन्हेंं objects कहते  है। लेकिन objects बनाने से पहले हमें उसobjects के लिए class को define करने की आवश्यकता होती  है। एक बार class को define कर देने के बाद हम उस class से संबंधित कितने भी objects बना सकते है। प्रत्येक object के पास उस class के data एवं functions का set होता है जिससे वे संबंधित होते है। Class के अंदर defineकिए गए सभी data एवं functions  उस class के member कहलाते है। Class definition सामान्यतः दो भागों private और public में विभाजित रहता है। हम सामान्यतः data को private भाग में तथाfunctions को public भाग में declare करते है किन्तु ऐसा करना जरूरी नहीं होता है। एक महत्वपूर्ण बात जो यहा ध्यान देनी चाहिए कि जब हम class को define करते है तो इसकेmembers के लिए कोई मेमोरी allocate नहीं होती है।Members के लिए मेमोरी केवल तबallocate होती है जब हम उस class का object बनाते है और यह प्रत्येक objects के लिए अलग-अलग allocate होती है।

Class definition syntax:

class class_name
{
     private:
          member data;
     public:
          member functions;
};

Class definition example:

class student
{
     private:
          char name[10];
          int marks;
          float percent;
     public:
          void getdata(void);
          void putdata(void);
};

Class और Objects के बारे में अधिक जानने के लिए देखें—Class and Object

Encapsulation

Encapsulation refers to the process of wrapping up data and functions into single unit known as class. Data that are wrapped into a class can only be accessed by the functions of that class. It is completely hidden from non-class functions. This hiding of data from access of non-class functions is sometimes called data hiding too.

Encapsulation एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें हम data एवं functions को एक  single unit के अंतर्गत एक साथ रखते है जिसे class कहते है। एक class के अंतर्गत आने वाले data को केवल उसी class के functions के द्वारा ही access किया जा सकता है। यह non-class functions से पूरी तरह से छिपा हुआ रहता है। इस प्रकार non-class functions के पहुँच से data को छिपाकर रखने को कभी-कभी data hiding भी कहा जाता है।

Abstraction

Abstraction refers to the process of providing only necessary information without explaining their background implementations. Classes use the concept of abstraction and therefore they are also called abstract data types (ADT). Generally they contains list of data and functions and implementations of all functions are placed outside the class.

Abstraction एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें केवल जरूरी information को ही बताया जाता है और उनके पिछे के कार्य करने के तरीके को नहीें बताया जाता। Classes abstraction के सिद्धांत का प्रयोग करती है इसीलिए इन्हें abstract data types (ADT) भी कहा जाता है। सामान्यतः वे data एवं functions को रखती है और सारे functions की coding class के बाहर होती है।

Inheritance

Inheritance is a process by which objects of one class acquire the properties of objects of another class. For this we need to create new class from existing class instead of creating it differently. Here the existing class is called base class and the new class is called derive class. The derive class will have its own new properties as well as all properties of its base class. Inheritance provides us an idea of reusability. This means we can add extra features to an existing class without modifying it. It saves our time and efforts of programming and also increases the reliability of program.

Inheritance एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके द्वारा एक class के objects दूसरे class के properties को प्राप्त करते है। इसके लिए हमें नए class को अलग से बनाने के बजाय इसे पहले से ही बने class से बनाना होता है। यहा पहले से बने class को base class तथा बनाए गए नए class को derive class कहते है। Derive class के पास  अपनी खुद की नयी properties होती है साथ ही इसके base class की भी सभी properties भी होती है। Inheritance हमें reusability का विचार देता है।  इसका मतलब है कि हम पहले से बने हुए class में परिवर्तन किए बिना इसमें और भी features जो़ड़ सकते है। यह हमारे programming के समय और श्रम को बचाता है और program की विश्वसनीयता को बढ़ाता है।

Polymorphism

Polymorphism meas one name many forms. It is an ability of function and operator to take different forms in different situations. It is also called function overloading and operator overloading. In both of above overloading we uses same function name and operator symbol to perform different tasks according to arguments passed by user. Both of above are an example of compiletime polymorphism in which what task is to be done is decided during compilation of program. Apart from compiletime polymorphism there is also a type of polymorphism which is called runtime polymorphism  in which what task is to be done is decided during execution of program. Virtual function is an example of runtime polymorphism.

Polymorphism का अर्थ एक नाम अनेक रूप होता है। यह function और operator की अलग-अलग परिस्थिति में अलग-अलग रूप लेने की क्षमता होती है। इसे function overloading और operator overloading भी कहा जाता है। उपर्युक्त दोनो प्रकार के overloading में हम एक ही function name और operator symbol का प्रयोग यूजर द्वारा दिए गए arguments के अनुसार अलग-अलग कार्य करने के लिए करते है। ये दोनों compiletime polymorphism के उदाहरण है जिसमें क्या कार्य करना है यह प्रोग्राम के compilation के समय ही निर्धारित कर लिया जाता है। Compiletime polymorphism से अलग एक और प्रकार का भी polymorphism होता है जिसे runtime polymorphism कहते है जिसमें क्या कार्य करना है यह प्रोग्राम के execution के समय निर्धारित किया जाता है। Runtime polymorphism का उदाहरण Virtual function होता है।

C++ के बारे में अधिक जानने के लिए देखें—Brief Introduction of C++

Basic example programs in C++

  1. Sum of two entered numbers
  2. Average of three entered numbers
  3. Simple interest
  4. Total and Percent
  5. Swapping values of two variables
  6. Swapping without using third variable
  7. Celsius to Fahrenheit conversion
  8. Find area and circumference of circle
Share it to:

Break Continue and Goto Statements in C++ in Hindi

Break Continue and Goto Statements in C++ in Hindi

In C ++ break, continue and geto statements are also called unconditional branching statements. This is because they are such statements that there is no condition with them. That is why they are used with the if, switch and loop.

C++ के विभिन्न Constrol statements और Programming Constructs के बारे में जानने के लिए देखें—Control Statements in C++

C++ में break, continue व goto statements को unconditional branching statement भी कहा जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि ये ऐसे statements है जिनके साथ कोई condition नहीं होता है। इसीलिए इनका प्रयोग if, switch व loop के साथ किया जाता है।

Unconditional Branching: Break Continue and Goto Statements in C in Hindi

break statement

The break statement is used to come out of the loop in a program. Normally we come out of the loop when the condition of the loop is false. But sometimes there is such a situation in the program that we have to come out of the loop without having the condition of the loop false. In such a situation, we use break statements. Whenever a break statement comes within a loop, the program’s control automatically gets transferred to the first statement after the loop. Generally the break statement is not directly used within the loop. It is always used inside an if statement within the loop.

Switch case statements के बारे में जानने के लिए देखें—Switch Statements in C++

break statement का प्रयोग किसी प्रोग्राम में loop से बाहर आने के लिए किया जाता है। सामान्यतः हम loop से बाहर तब आते है जब loop का condition false होता है। किन्तु कई बार प्रोग्राम में ऐसी स्थिति निर्मित होती है कि हमें loop के condition के false हुए बिना ही loop से बाहर आना होता है। ऐसी स्थिति में ही हम break statement का प्रयोग करते है। जब भी किसी loop के अंदर break statement आता है तो प्रोग्राम का कन्ट्रोल अपने आप ही loop के बाद वाले पहले statement में transfer हो जाता है। सामान्यतः break statement का प्रयोग सीधे loop के अंदर नहीं किया जाता है। इसका प्रयोग सदैव loop के अंदर किसी if statement के अंदर किया जाता है।

continue statement

The continue statement is used to go back to the beginning of the loop in a program. Normally we go back to the beginning of the loop once all statements of the loop are executed and condition of the loop is still true. But there are many cases when such a situation is created in the program that we have to go back to the beginning of the loop without having to execute all the statements of the loop. In the same situation, we use the continue statement. Whenever a continue statement comes inside a loop, the control of the program gets transferred automatically to the first statement of the loop, leaving all the statements after it. Generally the continue statement is not directly used within the loop. It is always used inside an if statement within the loop.

C++ के विभिन्न Looping statements और इसके प्रकारों को जानने के लिए देखें—Looping Statements in C++

continue statement का प्रयोग किसी प्रोग्राम में वापस loop की शुरूआत में जाने के लिए किया जाता है। सामान्यतः हम वापस loop की शुरूआत में तब जाते है जब एक बार loop के सारे statements execute हो जाने के बाद फिर से loop का condition true होता है। किन्तु कई बार प्रोग्राम में ऐसी स्थिति निर्मित होती है कि हमें loop के सारे statements के execute हुए बिना ही वापस loop की शुरूआत में जाना होता है। ऐसी ही स्थिति में ही हम continue statement का प्रयोग करते है। जब भी किसी loop के अंदर continue statement आता है तो प्रोग्राम का कन्ट्रोल इसके बाद के सभी statements को छोड़ते हुए अपने आप ही loop के पहले statement में transfer हो जाता है। सामान्यतः continue statement का प्रयोग सीधे loop के अंदर नहीं किया जाता है। इसका प्रयोग सदैव loop के अंदर किसी if statement के अंदर किया जाता है।

goto statement

The goto statement is used to transfer the control of the program from any location to any location. This is the most dangerous statement to transfer control of the program because here the location where the control is to be transfer is not previously defined. For this, it has to create a label and whenever the goto statement comes into the program, the control of the program gets transferred to that label. Normally we are advised not to use goto statements in the program because it makes it difficult to understand the program. Also, whatever is done using the goto statement can be done using other control statement. That’s why good programmers never use goto statement. Generally, the goto statement is also used in the program inside an if statement.

If statement और इसके विभिन्न रूपों को जानने के लिए देखें—If Statements in C++

goto statement का प्रयोग प्रोग्राम के कन्ट्रोल को किसी भी स्थान से किसी भी स्थान में transfer करने के लिए किया जाता है। यह प्रोग्राम के कन्ट्रोल को transfer करने के लिए सबसे खतरनाक statement होता है क्योकि इसमें कन्ट्रोल कहा transfer होगा यह पहले से निर्धारित नहीं होता है। इसके लिए इसमें एक label बनाना पड़ता है और प्रोग्राम के अंदर जैसे ही goto statement आता है तो प्रोग्राम का कन्ट्रोल उस label में transfer हो जाता है। सामान्यतः हमें प्रोग्राम में goto statement का प्रयोग नहीं करने की सलाह दी जाती है क्योकिं इससे प्रोग्राम को समझना कठिन हो जाता है। साथ ही goto statement के प्रयोग से जो कुछ किया जाता है वह अन्य कन्ट्रोल statement के प्रयोग से भी किया जा सकता है। इसीलिए अच्छे प्रोग्रामर कभी भी goto statement का प्रयोग नहीं करते है। सामान्यतः goto statement का प्रयोग भी प्रोग्राम में if statement के अंदर ही किया जाता है।

Example programs for Unconditional branching statements break, continue and goto in C++

  1. Unconditional Branching (break continue and goto)
  2. Generating series of prime numbers
  3. Switch between Mon to Sun (switch case single case)
Share it to:

Difference between C and C++ in Hindi

Difference between C and C++ in Hindi

POP और OOP में क्या अंतर होता है जानने के लिए देखें—POP vs OOP

The main difference between C and C++ is that C is a procedure oriented programming language whereas C++ is an object oriented programming language. The other differences are as follows:

C Language के बारे में अधिक जानने के लिए देखें—Brief Introduction of C

C और C++ में मुख्य अंतर यह है कि C एक procedure oriented programming language जबकि C++ एक object oriented programming language है। अन्य अंतर निम्नलिखित है—

C++ के बारे में अधिक जानने के लिए देखें—Brief Introduction of C++

Difference between C and C++
Fig. Difference between C and C++

OOP के विभिन्न Concepts जानने के लिए देखें—Concepts of OOP

Difference between C and C++ in Hindi
Fig. Difference between C and C++ in Hindi

Class और Objects के बारे में अधिक जानने के लिए देखें—Class and Object

Basic example programs in C and C++

  1. Sum of two entered numbers
  2. Average of three entered numbers
  3. Simple interest
  4. Total and Percent
  5. Swapping values of two variables
  6. Swapping without using third variable
  7. Celsius to Fahrenheit conversion
  8. Find area and circumference of circle
Share it to:

Difference between POP and OOP in Hindi

Difference between Procedure Oriented Programming(POP) and Object Oriented Programming(OOP) in Hindi

C++ के बारे में अधिक जानने के लिए देखें—Brief Introduction of C++

Programming refers to the process of developing programs for solving programming problems. There are mainly two ways of writing programs: Procedure Oriented Programming (POP) and Object Oriented Programming (OOP). Both of them has different thinking and coding method of solving problem.

प्रोग्रामिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें हम programming problems को हल करने के लिए प्रोग्राम बनाते है। प्रोग्राम लिखने के दो तरीके होते है—Procedure Oriented Programming (POP) और Object Oriented Programming (OOP). इन दोनों में समस्या का हल सोचने और कोडिंग करने के अलग-अलग तरीके होते है।

Procedure Oriented Programming (POP)

In POP solution of programming problem is viewed as sequence of tasks to be done such as reading, processing and writing and number of functions are written to accomplish these task. One of the biggest drawback of POP is that it does not create model of entities related to the problem. Another serious drawback of POP is that many data items are declared as global so that it may be used by all functions within program. This makes our data insecure as it can be unnecessarily changed by any function.

POP में किसी programming problem के हल को क्रमबद्ध कार्य करने जैसे—reading, processing और writing के रूप में देखा जाता है और इन कार्यो को पूरा करने के लिए बहुत सारे functions लिखे जाते है। POP की एक बड़ी कमी यह है कि यह समस्या से संबंधित entities का model तैयार नहीं कर पाता है। POP की दूसरी गंभीर समस्या यह है कि इसमें कई सारे data items को global declare किया जाता है ताकि इन्हें प्रोग्राम के सभी function के द्वारा प्रयोग किया जा सके। इससे हमारा डेटा असुरक्षित हो जाता है क्योंकि इसे किसी भी functions के द्वारा आनावश्यक रूप से परिवर्तित किया जा सकता है।

Organization of Data and Functions in POP
Fig. Organization of Data and Functions in POP

Object Oriented Programming (OOP)

In OOP for solving problems we first create model of entities related to the problem called objects. Here objects are actually the group of related data and functions. They are also called basic run time entities in object oriented system. They represents real world entities of problem such as student, customer, products program has to handle. In real world each entity has some data and some functions. For example if the entity is a student then data would be name, marks, percent etc. and functions would be getdata, putdata etc. The data of one object can only be accessed by the functions of that object. However the functions of one object can be accessed by the functions of another object. Thus in OOP data are hidden from outside objects and remains secure.

Class और Objects के बारे में अधिक जानने के लिए देखें— Class and Object

OOP में समस्या को हल करने के लिए पहले हम समस्या से संबंधित entities का model तैयार करते है जिन्हें object कहते है। वास्तव में object संबंधित data व functions के समूह होते है। इन्हें object oriented system में basic run time entities भी कहते है। ये समस्या के वास्तविक दुनिया के entities जैसे—student, customer, products को represent करते है जिन्हें प्रोग्राम को handle करना होता है। वास्तविक दुनिया में प्रत्येक entity के कुछ न कुछ data व functions होते है। उदाहरण के लिए यदि entity कोई student है तो name, marks, percent आदि इसके data हो सकते है तथा getdata, putdata आदि इसके function हो सकते है। एक object के अंतर्गत आने वाले data को केवल उसी object के functions के द्वारा ही access किया जा सकता है। किन्तु एक object के अंतर्गत आने वाले functions को दूसरे object के functions के द्वारा भी access किया जा सकता है। इस प्रकार OOP में data बाहरी object से छिपा हुआ व सुरक्षित रहता है।

Organization of Data and Functions in OOP
Fig. Organization of Data and Functions in OOP

Main Difference between POP and OOP

Procedure Oriented Programming(POP) और Object Oriented Programming(OOP) में निम्नलिखित प्रमुख अंतर होते है—

Difference between POP and OOP
Fig. Difference between POP and OOP

OOP के विभिन्न Concepts जानने के लिए देखें—Concepts of OOP

Difference between POP and OOP Hindi
Fig. Difference between POP and OOP Hindi

Basic example programs in C++

  1. Sum of two entered numbers
  2. Average of three entered numbers
  3. Simple interest
  4. Total and Percent
  5. Swapping values of two variables
  6. Swapping without using third variable
  7. Celsius to Fahrenheit conversion
  8. Find area and circumference of circle

C और C++ में प्रमुख अंतर क्या है जानने के लिए देखें—C vs C++

Share it to:

Brief Introduction of C++ in Hindi

Brief Introduction to C++ Language in Hindi

C++ Programming Language Notes in Hindi

POP और OOP में क्या अंतर होता है जानने के लिए देखें—POP vs OOP

Why its name is C++?

In 1967 Martin Richard developed a programming language BCPL. Later In 1969 Ken Thomson added some new features to BCPL and developed a language called B. Again In 1972 Dennis Ritchie added many new features in B and developed a powerful language which was then called C as it was developed from B. Finally in 1980 Bjarne Stroustrup added object oriented features in C and developed most powerful language what we call C++.

सन् 1967 में Martin Richard ने BCPL नामक एक प्रोग्रामिंग भाषा बनाया। बाद में सन् 1969 में Ken Thomson ने BCPL में कुछ नयी विशेषताएँ जोड़ी और B भाषा का विकास किया।पुनः 1972 में Dennis Ritchie ने B में कई सारे नये विशेषताएँ जोड़कर एक शक्तिशाली भाषा विकसित किया जिसे C कहा गया क्योंकि इसे B से विकसित किया गया था। अंततः सन् 1980 में Bjarne Stroustrup ने C में object oriented features को जोड़ा और एक बहुत ही शक्तिशाली भाषा C++ का विकास किया।

C और C++ में प्रमुख अंतर क्या है जानने के लिए देखें—C vs C++

Applications and uses C++

C++ is a versatile and powerful language. It is mainly used to develop system software such as operating system, compiler, interpreter etc. But it can also be used for developing any kind of real life application software such as commercial, scientific, databases, communication, games etc.

C++ एक बहुउपयोगी और शक्तिशाली भाषा है। इसका का प्रयोग मुख्यतः system software जैसे—operating system, compiler, interpreter आदि बनाने के लिए किया जाता है। किन्तु इसकी सहायता से किसी भी प्रकार के real life application software भी बनाए जा सकते है जैसे—commercial, scientific, databases, communication, games आदि।

OOP के विभिन्न Concepts जानने के लिए देखें—Concepts of OOP

IDE for C++

Developing programs using C++ requires software called Integrated Development Environment (IDE) such as Turbo C++, Codeblocks, and Visual Studio etc. The IDE software contains mainly following three programs:

(1) Text Editor: It is used to type instructions of program which is called source code. Source code is stored in C file.

(2) Compiler: It is used to translate instructions of program into machine language which is called binary code. Binary code is stored in executable file.

(3) Debugger: It is used to find bugs (errors) within program and fix them.

C++ भाषा में प्रोग्राम बनाने के लिए एक Integrated Development Environment (IDE) software जैसे— Turbo C++, Codeblocks, and Visual Studio आदि की आवश्यकता होती है।IDE software में मुख्यतः निम्नलिखित तीन प्रोग्राम होते है—

(1) Text Editor: इसका प्रयोग प्रोग्राम के instructions को टाईप करने के लिए किया जाता है जिसे source code कहते है। Source code CPP file के रूप में स्टोर होता है।

(2) Compiler: इसका प्रयोग प्रोग्राम के instructions को machine language मेंtranslate करने के लिए किया जाता है जिसे binary code कहते है। Binary code executable file के रूप में स्टोर होता है।

(3) Debugger: इसका प्रयोग प्रोग्राम में bugs (errors) का पता लगने व उसे ठीक करने के लिए किया जाता है।

C++ में Tokens क्या होता है जानने के लिए देखें—Tokens in C++

Keywords

Keywords are predefined words for performing various tasks in C++. They are also called reserved words. There are approx 63 keywords in C++. Example: char, int, float, void etc.

C++ भाषा में विभिन्न कार्यो को करने के लिए पहले से बने शब्दों को keyword कहते है। इन्हें reserved words भी कहा जाता है। C++ में लगभग 63 keyword है। उदाहरण— char, int, float, void आदि।

Variables

Variables are new words created by us for storing data. Its values changes during execution of program. Example: a, b, c, num, sum etc.

Data को स्टोर करने के लिए हमारे द्वारा बनाए गए नए शब्दों को variable कहते है। इनका मान प्रोग्राम के execution के दौरान बदलता रहता है। उदाहरण— a, b, c, num, sum आदि।

Constants

Constants refers to the fixed value that doesn’t change during execution of program. No matter where we use it in program, its meaning always remains same. Example: 5, 34.22, -81 etc.

Constant स्थायी मान होते है जो प्रोग्राम के execution के दौरान नहीं बदलते है।  हम इन्हें प्रोग्राम में कहीं भी प्रयोग करें इसका अर्थ सदैव एक ही होता है। Example: 5, 34.22, -81 आदि।

Operators

Symbols that are used to perform operations between variables are called operators. Example: +, -, *, /, = etc.

Variables के मध्य operations करने के लिए प्रयोग किए जाने वाले symbol operator कहलाते है। उदाहरण— +, -, *, /, = आदि।

Data Types

C++ Language has following five basic data types:
C++ भाषा में निम्नलिखित पाँच मूलभूत data type होते है—

char(%c) : for storing single character such as: A a 1 5 + – etc.

int(%d) : for storing integer number such as: 7 50 -33 -9 etc.

float(%f) : for storing decimal numbers such as: 4.5 66.23 -7.2 -89.44 etc.

double(%lf) : for storing very large or very small decimal numbers such as: 4.5 66.23 -7.2 -89.44 etc.

void : does not store any data and used with functions and pointers.

C++ के विभिन्न Data Types को जानने के लिए देखें—Data Types in C++

Statements

In C++ language each instruction of program are written as separate statement in lowercase (small letters) terminated by semicolon (;) which is called statement terminator.

C++ भाषा में प्रोग्राम के प्रत्येक instruction को एक अलग statement के रूप मेंlowercase (small letters) में लिखा जाता है जिसके अंत में semicolon (;) होता है जिसे statement terminator कहते है।

Read/Write Operations

In C++ language cin object is used for reading data from keyboard and cout object is used for writing data to monitor. We use extraction operator >> with cin object and insertion operator << with cout object.

C++ भाषा  में की-बोर्ड से डेटा read करने के लिए cin object तथा मानीटर पर डेटा write करने के लिए cout object का प्रयोग किया जाता है। cin object के साथ extraction operator>> तथा cout object के साथ Insertion operator<< का प्रयोग किया जाता हैं।

The main()

main() is main function of C++ program. All C++ programs are start from first statements of main() and stop at last statement of main(). main() is only compulsory function of C++ program. No C++ program can run without main().

main() C++ प्रोग्राम का सबसे प्रमुख फंक्शन होता है। C++ भाषा में प्रोग्राम main() functionके पहले statement से start होता है और इसके अंतिम statement पर stop होता है। किसी C++ प्रोग्राम में और कुछ हो या न हो एक main() का होना आवश्यक होता है। main()के बिना कोई भी C++ प्रोग्राम run नहीं हो सकता है।

C++ के Character Set के बारे में जानने के लिए देखें—Character Set of C++

Basic example programs in C++

  1. Sum of two entered numbers
  2. Average of three entered numbers
  3. Simple interest
  4. Total and Percent
  5. Swapping values of two variables
  6. Swapping without using third variable
  7. Celsius to Fahrenheit conversion
  8. Find area and circumference of circle
Share it to: