MS DOS Booting Process notes in Hindi

Explain Booting Process of MS DOS in Hindi

कम्प्यूटर को Start एवं Restart करना Booting कहलाता है। बंद पड़े कम्प्यूटर को स्टार्ट करना Cold Booting तथा पहले से चालू कम्प्यूटर को रिस्टार्ट करना Warm Booting कहलाता है। जब हम कम्प्यूटर का पावर बटन आन करते है तो ROM Memory में स्टोर प्रोग्राम BIOS (Basic Input Output System) अपने आप Execute (Run) हो जाता है। यह प्रोग्राम सभी Devices को Check करता है जिसे POST (Power On Self Test) कहते है।

MS-DOS आपरेटिंग सिस्टम के बारे में अधिक जानने के लिए देखें—Microsoft Disk Operating System (MS DOS)

यदि सभी डिवाईस ठीक तरह से कार्य कर रहे होते है तो यह  MS-DOS को External Storage Device (Hard Disk) से Internal Memory Device (RAM) में लोड करता है। इस प्रक्रिया को Booting Process कहा जाता है। सफलातापूर्वक Booting हो जाने के बाद हमें DOS Command Prompt ( C:\> ) दिखायी देता है और हमारा कम्प्यूटर कार्य करने के लिए तैयार हो जाता है। MS-DOS के Booting Process को निम्नलिखित Steps से समझा जा सकता है—

  1. BIOS Initialization: इस चरण में BIOS Firmware कम्प्यूटर सिस्टम से जुड़े हार्डवेयर डिवाइसों की पहचान करता है और उन्हें प्रारंभ करता है।
  2. POST: इस चरण में BIOS आपरेटिंग सिस्टम के लोडिंग के लिए Disk की पहचान करता है तथा Boot Sector में स्थित MBR को पढ़ता है।
  3. MBR Program Data Area में स्टोर दो फाईलों IO.SYS व MSDOS.SYS को ढूँढ़कर इसे मेमोरी में लोड करता है इसके बाद कम्प्यूटर के द्वारा CONFIG.SYS फाईल को लोड किया जाता है।
  4. Booting के अंतिम चरण में COMMAND.COM नामक फाईल को मेमोरी में लोड किया जाता है जिसमें DOS के सभी Internal Commands स्टोर होते है। इसके बाद AUTOEXEC.BAT फाईल स्वतः ही Execute हो जाता है और हमारा कम्प्यूटर पूरी तरह से चालू हो जाता है।
Booting Process notes in Hindi
Fig. Booting Process

I-Facts (Interesting facts related to MS DOS Booting Process in Hindi)

  1. POST – Power On Self Test, BIOS – Basic Input Output System, MBR – Master Boot Records
  2. Boot Sequence: यह उन Operations का समूह होता है जिन्हें कम्प्यूटर तब Perform करता है जब कम्प्यूटर स्टार्ट होता है।
  3. Bootstrap Loader: यह आपरेटिंग सिस्टम को स्टार्ट करने के लिए आवश्यक अन्य साफ्टवेयर को मेमोरी में लोड करता है।
  4. Master Boot Record (MBR): Hard Disk के सबसे पहले Sector में स्टोर सूचना होता है जो बताता है कि आपरेटिंग सिस्टम डिस्क में कहाँ स्थित है और इसे किस तरह मेमोरी में लोड किया जा सकता है। Master Boot Record को Master Partition Table भी कहा जाता है।
  5. Warm Reboot के लिए Keyboard Shortcut Ctrl+Alt+Del का प्रयोग किया जाता है।
  6. Cold Booting में कम्प्यूटर के हार्डवेयर पार्ट्स ठंडे होते है जबकि Warm Booting में कम्प्यूटर पहले से ही चालू होता है अतः इसके हार्डवेयर पार्ट्स गरम होते है इसीलिए इसका नाम Warm Booting है।
  7. आपरेटिंग सिस्टम क्या होता है इसके बारे में अधिक जानने के लिए देखें—OS: Operating System Software
Share it to:

Microsoft Disk Operating System MS DOS notes in Hindi

What is MS DOS in Hindi

MS-Windows क्या होता है Windows और DOS में क्या अंतर होता है जानने के लिए देखें—Introduction to MS-Windows

Microsoft Disk Operating System (MS-DOS) एक आपरेटिंग सिस्टम साफ्टवेयर है Microsoft कम्पनी के द्वारा बनाया गया है। यह CLI अर्थात् Command Line Interface पर आधारित आपरेटिंग सिस्टम साफ्टवेयर है जिसमें सारे कार्य Keyboard से Command Type करके किया जाता है। इसे Disk Operating System इसलिए कहा जाता है क्योकिं यह कम्प्यूटर के Hard Disk को नियंत्रित करता है और अधिकतर Disk से संबंधित Input/Output का कार्य करता है। MS-DOS हमारे Hard Disk को मुख्यतः निम्नलिखित दो भागों में विभाजित करता है—System Area और Data Area.

Microsoft Disk Operating System MS DOS notes in Hindi

System Area वह भाग होता है जिसमें हमारे डिस्क के नियंत्रण से संबंधित महत्वपूर्ण सूचनाएँ होती है तथा Data Area वह भाग होता है जहाँ यूजर का डेटा स्टोर होता है। System Area आगे तीन भागों Boot Record, File Allocation Table (FAT) व Root Directory में विभाजित होता है। Boot Record Disk का सबसे पहला भाग होता है जहा DOS को चालू करने सें संबंधित जानकारी स्टोर होता है। File Allocation Table (FAT) में हार्ड डिस्क के Data Area को नियंत्रण करने से संबंधित जानकारी संग्रहीत रहता है। Root Directory कम्प्यूटर सिस्टम का सबसे प्रमुख File Directory होता है जिसे Backslash ( \ ) से सूचित किया जाता है।

I-Facts (Interesting facts related to MS DOS in Hindi)

  1. Interface के आधार पर Operating System मुख्यतः दो प्रकार के होते है—CLI और GUI.
  2. CLI – Command Line Interface आपरेटिंग सिस्टम में सारे कार्य Keyboard से Command Type करके किया जाता है।
  3. GUI – Graphical User Interface आपरेटिंग सिस्टम में कार्य करने के लिए Graphics और Mouse का प्रयोग किया जाता है।
  4. DOS को CUI (Character User Interface) आपरेटिंग सिस्टम भी कहा जाता है।
  5. Microsoft से पहले International Business Machines (IBM) ने Personal Computer Disk Operating System (PC-DOS) नाम से सन् 1981 में एक आपरेटिंग सिस्टम बनाया था।
  6. MS-DOS का पहले Version सन् 1981 में रिलिज किया गया था जिसका नाम MS-DOS 1.0 था। इसका अंतिम Version MS-DOS 6.22 था जिसे सन् 1994 में रिलिज किया गया था। इसके बाद से DOS को Windows के साथ Accessories में Command Prompt के नाम से जोड़ दिया गया।
Share it to:

New Features of Windows 7 in Hindi

New Features of Windows 7 in Hindi

MS-Office 2007 में इसके पुराने Versions की तुलना में बहुत से परिवर्तन किए गए है और नए Features को जोड़ा गया है। यह आधुनिक जरूरतों को पुरा करने के लिए एक Best आपरेटिंग सिस्टम है। इसके महत्वपूर्ण Features निम्नलिखित है—(Windows Operating System के महत्वपूर्ण Elements को जानने के लिए देखें—Screen Elements of Windows 7)

New Features of Windows 7 in Hindi

Performance

Windows 7 एक Best Performing आपरेटिंग सिस्टम है। यह उपयोगकर्ता की समस्त जरूरतों को पूरा करता है और बहुत Fast कार्य करता है। इसे इस तरह से बनाया गया है कि यह कम क्षमता के हार्डवेयर पर भी आसानी से चल जाता है।  

Aero Shake

इसकी सहायता से हम बहुत सारे खुले हुए Window में से जिसमें कार्य करना है उसे छोड़कर बाकी सभी को Minimize कर सकते है। इसके लिए जिसमें कार्य करना है उस Window के Title Bar में माउस से क्लिक करके Shake करते है।

Aero Snap

इसकी सहायता से किसी एक Window को मानीटर स्क्रीन में आधा या पूरा Maximize व Minimize कर सकते है। आधे स्क्रीन पर Maximize करने के लिए Window के Title Bar में माउस से क्लिक करके उसे मानीटर स्क्रीन के बाए या दाए किनारे तक Drag  करते है और पूरे स्क्रीन पर करने के लिए ऊपरी किनारे तक Drag करते है।

Aero Peek

इसकी सहायता से हम वर्तमान में खुले हुए Windows को Minimize किए बिना ही कम्प्यूटर के Desktop को देख सकते है और सभी को Single Click में Minimizeभी कर सकते है। इसके लिए Taskbar के सबसे दाए स्थित Show Desktop बटन पर माउस Pointer को ले जाते है।

Gadgets

Gadget छोटे-छोटे प्रोग्राम होते है जो हमें कोई विशेष जानकारी प्रदान करते है। इन्हें हम अपने कम्प्यूटर के Desktop पर कहीं भी रख सकते है। ये दिखने में बहुत सुंदर व आकर्षक भी लगते है। Windows 7 के साथ आने वाले Gadgets है—Calendar, Clock, CPU Meter, Slide Show आदि।

New Themes

Windows 7 के लिए Aero Themes नाम से बहुत से नए Themes भी बनाए गए है। इन Themes में बहुत सारे Background Wallpapers के साथ Windows Color, Sounds, Auto Change Desktop Wallpaper आदि Features होते है। कुछ Themes के नाम है—Windows 7, Architecture, Nature आदि।

Jump List

Jump List वर्तमान में चल रहे किसी प्रोग्राम के द्वारा हाल ही में खोले गए फाईलो का List होता है। इसें हम टास्कबार में प्रोग्राम के बटन पर Right Click करके देख सकते है और किसी फाईल के नाम पर क्लिक करके उसे सीधे ही खोल सकते है।

Libraries

Windows 7 में Library की सुविधा दी गई है जिसमें अलग-अलग प्रकार के फाईलों को रखने के लिए पहले से ही Folders बने होते है जो इन फाईलों के लिए Default Save Location का कार्य करते है। हम Library के प्रयोग से अपने फाईलों को अच्छी तरह से Organize करके रख सकते है। इसके लिए इसमें Documents, Pictures, Music, Videos आदि Folder होते है।

Windows Touch

Windows 7 में Touch Screen मानीटर या डिस्प्ले को सपोर्ट करने की Functionality को भी जोड़ दिया गया है। इसकी सहायता से हम टच स्क्रीन वाले मानीटरों के साथ Windows 7 को चलाने का आनंद ले सकते है।

Home Group

Windows 7 में नेटवर्किंग को बहुत ही आसान बनाया गया है। इसमें हम किसी भी नेटवर्क को आसानी से Configure व Connect कर सकते है। साथ ही इसमें उपस्थित Home Group Feature की सहायता से अपने घर के डिवाईसों का एक अलग नेटवर्क बना सकते है।

XP Mode

इस Feature की सहयता से हम Windows 7 के अंदर ही Windows XP को चला सकते है। इसका सबसे बड़ा लाभ यह है कि इससे हमारे वे पुराने Applications भी आसानी से चल जाते है जो Windows 7 में नहीं चल पाते।

New Taskbar Features

Windows 7 के टास्कबार में बहुत से नए Features को जोड़ा गया है। इसमें हम किसी भी प्रोग्राम को बहुत ही आसानी से Pin एवं Unpin कर सकते है। साथ ही यह एक ही तरह के खुले प्रोग्रामों और फाईलों को स्वतः ही ग्रुप कर देता है। हम टास्कबार में प्रोग्राम बटन के उपर Pointer ले जाकर एक फाईल से दूसरे फाईल में आसानी से Switch कर सकते है। उनका पूरे स्क्रीन में Preview देख सकते है, उन्हें Rearrange कर सकते है और आवश्यकता पड़ने एक फाईल या पूरे ग्रुप को एक ही बार में Close कर सकते है। 

I-Facts (Interesting facts about features of Windows Operating System)

  1. Windows आपरेटिंग सिस्टम के कुछ महत्वपूर्ण और अक्सर प्रयोग में लाए जाने वाले Keyboard Shortcuts निम्नलिखित है—
  2. Windows (Opens start menu and you can search file/folders/programs)
  3. Windows + D (Goto the desktop of computer)
  4. Windows + Tab (Switch between opened applications)
  5. Windows + L (Locks computer)
  6. Windows + R (Opens Run)
  7. Windows + M (Minimize all applications)
  8. Alt + F4 (Close application)
  9. Alt + F4 + Enter (Shut down computer)
  10. Alt + Tab (Switch between opened applications)
  11. Ctrl + Shift + Esc (Open task manager)
  12. Prtsc (Take screenshot)
  13. Tab (Goto different sections of active window)
  14. Windows Booting Process को जानने के लिए देखें—Booting Process in Windows 7
Share it to:

New Features of MS Office 2007 in Hindi

New Features of MS Office 2007 in Hindi

MS – Office 2007 के बारे में और अधिक जानने के लिए देखें—Introduction to MS-Office 2007

MS-Office 2007 में इसके पुराने Versions की तुलना में बहुत से परिवर्तन किए गए है और नए Features को जोड़ा गया है। इसमें पूर्णतः नए Graphical User Interface का प्रयोग किया गया है जिससे कार्य बहुत आसानी से और तेज गति से होते है। इसीलिए इसे Fluent User Interface भी कहा जाता है। इसके अतिरिक्त इसमें बहुत से नए File Formats, Smartarts, Collaboration System को भी जोड़ा गया है। इसके महत्वपूर्ण Features निम्नलिखित है—

New Features of MS Office 2007 in Hindi

Office Button

Office 2007 में इसके पुराने Versions के फाईल मेनू को हटाकर Office Button को लाया गया है। इसके अंतर्गत New, Open, Save, Print जैसे महत्वपूर्ण कमांड आते है। साथ ही इसके Word Option विकल्प का प्रयोग करके हम साफ्टवेयर की सेटिंग को बदल सकते है।

Quick Access Toolbar

यह आफिस बटन के बगल में स्थित Tools का समूह होता है। इसमें सामान्यतः ऐसे Tools को रखा जाता है जिनकी जरूरत हमें बार-बार पड़ती रहती है।

MS Windows Operating System Software के बारे में जानने के लिए देखें—Introduction to MS-Windows

Ribbon Bar

Ribbon एक ऐसा Panel है जिसमें वर्ड के सभी Tools या Options उपस्थित होते है। दूसरे शब्दों में हम जिस भी मेनू में क्लिक करते है उसके अंतर्गत आने वाले सभी विकल्प रिबन में ही दिखाई देते है।

Contextual Tab

ये ऐसे Tab या Menu होते है जो किसी विशेष परिस्थिति में अपने आप खुल जाते है। इसके अंतर्गत विशेष कार्य से संबंधित विकल्पों को रखा जाता है। उदाहरण के लिए जब हम वर्ड में कोई Picture Insert करते है तो Picture Tools (Format) नाम से एक Contextual Tab खुल जाता है।

Mini Toolbar

Mini Toolbar एक छोटा सा टूलबार होता है जो वर्ड डाक्यूमेंट के Editing Area में ही प्रदर्शित होता है। इसमें कुछ Basic Formating Features होते है। उदाहरण के लिए जब हम डाक्यूमेंट में Text को सलेक्ट करते है तो उसी स्थान पर एक Mini Toolbar खुल जाता है।

Smartarts

Smartart किसी विशेष प्रकार के सूचनाओं एवं प्रक्रियाओं को प्रदर्शित करने के लिए पहले से बने हुए Diagrams होते है। Office 2007 में स्मार्टआर्ट एक नया Feature है। इसके अंतर्गत 100 से अधिक स्मार्टआर्ट उपलब्ध है।

New File Formats

Office 2007 में नए File Format को भी लागू किया गया है जिसका नाम Office Open XML है। इसमें फाईल के Extension Name के अंत में .x लिखा जाता है जैसे—.docx, .xlsx, .pptx आदि। साथ ही इसमें बनाए गए डाक्यूमेंट को PDF, XML आदि में Export भी किया जा सकता है।

Collaboration Features

Office 2007 में एक साथ कार्य करने के लिए Collaborative Applications भी उपलब्ध है। उदाहरण के लिए इसमें SharePoint, OneNote, Groove आदि की सहायता से बहुत सारे उपयोगकर्ता एकसाथ मिलकर कार्य कर सकते है।

I-Facts (Interesting facts about features of MS Office)

  1. OLE – Object Linking and Embedding एक ऐसा Feature है जिसकी सहायता से हम किसी दूसरे Appication में बनाए गए File को अपने वर्तमान Document में ला सकते है।
  2. दूसरे Application के File को अपने वर्तमान Document में लाना Embedding तथा तथा Original File के साथ Embedded File का Link बनाना Linking कहलाता है। Link बनाने से Original File में किया गया परिवर्तन Embedded File में भी स्वतः हो जाता है।
  3. MS – Office का इतिहास और उसके पूर्व के Versions के बारे में अधिक जानने के लिए देखें—History and Versions of MS-Office
Share it to:

Screen Elements Parts and Description of MS Outlook

  • Title Bar
    • Left: Opened Folder’s Name, Software’s Name
    • Right: Minimize, Maximize and Close Buttons
  • Menu Bar
    • Left: File, Edit, View, Go, Tools, Actions, Help
    • Right: Search Help
  • Tool Bar: Standard Tools
  • Navigation Pane
    • Favorite Folders
    • Mail Folders
    • Mail
    • Calendar
    • Contacts
    • Tasks
  • Opened Folder with list of all Mail
  • Opened Mail with Message
  • To Do Bar and Calendar
  • Status Bar
Screen Elements Parts and Description of MS Outlook
Fig. Screen Elements of MS Outlook
Share it to:

Screen Elements Parts and Description of MS Access

  • Title Bar
    • Center : Software’s Name, File Name
    • Left : Office Button
    • Right : Minimize, Maximize, Close
  • Menu Bar/Tab
    • Left : Home, Create, External Data, Database Tools, Datasheet
    • Right : Help Button
  • Ribbon Bar : All options/tools
  • Work Area: Blank Database
  • Navigation Pane
  • Record Selector and Search Records
  • Status Bar
    • Left : Current View
    • Right : Num, Caps, Scroll Lock Status and View Buttons
  • Scroll Bar
    • Vertical : Top to Bottom
    • Horizontal : Left to Right
Screen Elements Parts and Description of MS Access
Fig. Screen Elements of MS Access
Share it to:

Screen Elements Parts and Description of MS PowerPoint

  • Title Bar
    • Center : Software’s Name, File Name
    • Left : Office Button
    • Right : Minimize, Maximize, Close
  • Menu Bar/Tab
    • Left : Home, Insert, Desing, Animation, Slide Show, Review, View
    • Right : Help Button
  • Ribbon Bar : All options/tools
  • Work Area: Blank Slide (Slide pane)
  • Slide Tab and Outline Tab
  • Mini slide pane
  • Speaker’s Note (Notes pane)
  • Status Bar
    • Left : Number of Slides
    • Right : View Buttons, Zoom Slider
  • Scroll Bar
    • Vertical : Top to Bottom
    • Horizontal : Left to Right
Screen Elements Parts and Description of MS PowerPoint
Fig. Screen Elements of MS PowerPoint
Share it to:

Screen Elements Parts and Description of MS Excel

  • Title Bar
    • Center : Software’s Name, File Name
    • Left : Office Button
    • Right : Minimize, Maximize, Close
  • Menu Bar/Tab
    • Left : Home, Insert, PageLayout, Formula, Data, Review, View
    • Right : Help Button
  • Ribbon Bar : All options/tools
  • Formula Bar :
    • Left : Name Box
    • Right : Formula Bar
  • Work Area : Blank Sheet
  • Sheet Tabs, Insert New Sheet Button
  • Status Bar
    • Left : Cursor Mode (Ready, Edit, Enter)
    • Right : View Buttons, Zoom Slider
  • Scroll Bar
    • Vertical : Top to Bottom
    • Horizontal : Left to Right
  • Row Headings/Lables : 1,2,3…..1048576
  • Column Headings/Lables : A,B,C……XFD(16384)
  • Cell : Sigle Box
  • Active Cell : Highlighted Cell
Screen Elements Parts and Description of MS Excel
Fig. Screen Elements of MS Excel
Share it to:

Screen Elements Parts and Description of MS Word

  • Title Bar
    • Center : Software’s Name, File Name
    • Left : Office Button
    • Right : Minimize, Maximize, Close
  • Menu Bar/Tab
    • Left : Home, Insert, Page Layout, Reference, Mailings, Review, View
    • Right : Help Button
  • Ribbon Bar : All options/tools
  • Work Area : Blank Page
  • Status Bar
    • Left : Number of Pages, Number of Words
    • Right : View Buttons, Zoom Slider
  • Scroll Bar
    • Vertical : Top to Bottom
    • Horizontal : Left to Right
  • Mouse Pointer (Arrow)
  • Keyboard Cursor (Blinking Vertical Line)
Screen Elements Parts and Description of MS Word
Fig. Screen Elements of MS Word
Share it to:

Introduction to MS Office 2007 Notes in Hindi

Introduction to MS Office 2007 in Hindi

MS-Office 2007 के विभिन्न नए Features को जानने के लिए देखें—New Features of MS-Office 2007

MS-Windows 7 साफ्टवेयर बनाने वाली विश्व की सबसे बड़ी कम्पनी Microsoft के द्वारा बनाया गया एक PC-Package या Office Suite है। इसे सन् 2007 में रिलिज किया गया था। यह दुनिया का सर्वश्रेष्ठ Office Suite है जिससे Official Works को करना बहुत आसान हो जाता है। किसी भी Office में विभिन्न प्रकार के कार्य किए जाते है जिसको करने के लिए इस Suite में अलग-अलग Software उपलब्ध है।

MS-Office के History and Versions को जानने के लिए देखें—History and Versions of MS-Office

उदाहरण के लिए पत्र लिखने के लिए Word, डेटा एंट्री कर उस पर गणना व रिपोर्ट बनाने के लिए Excel, प्रेजेंटेशन तैयार करने के लिए Powerpoint आदि। MS-Office 2007 भी अलग-अलग जरूरतों के अनुसार अलग-अलग Flavors में उपलब्ध है जैसे—Basic, Home, Student, Standard, Small Business, Professional, Professional Plus, Enterprise, Ultimate. इसे चलाने के लिए कम से कम निम्नलिखित सिस्टम की आवश्यकता होती है—

 OS                   -              Windows XP SP2 or Later
 Processor            -              500 MHz 
 RAM                  -              256 MB
 Hard Disk            -              2 GB 
MS Office 2007 Notes in Hindi
Fig. MS Office 2007 Logo

I-Facts (Interesting facts about Microsoft Office 2007)

  1. MS-Office 2007 ऐसा पहला Version है जिसमें पारंपरिक Menu System को हटाकर नया Interface लाया गया जिसे Ribbon System या Fluent User Interface कहते है। इसमें File Menu को Office Button से Replace कर दिया गया।
  2. MS-Office 2007 के साथ तीन नए Application रिलिज किए गए जो है— MS-Groove, MS-OneNote व Visio Viewer.
  3. MS-Groove एक Document Collaboration Application है जिसकी सहायता से एक से अधिक व्यक्ति अलग-अलग कम्प्यूटर का प्रयोग करते हुए किसी Document को Share करके उस पर कार्य कर सकते है। इसे वर्तमान में MS-SharePoint के नाम से जाना जाता है।
  4. MS-OneNote एक Information Gathering और Collaboration Application है। इसकी सहायता से विभिन्न Users के द्वारा बनाए गए Files को इकट्ठा करके उसे इंटरनेट या नेटवर्क पर Share किया जाता है।
  5. Visio Viewer एक ऐसा Application है जिसकी सहायता से MS-Visio के द्वारा बनाए Files को देखा जाता है। MS-Visio एक ऐसा प्रोग्राम है जिसकी सहायता से Drawings व Diagrams बनाए जाते है। जैसे—Electrical Drawings, Network Drawings आदि।
  6. MS-Windows के बारे में जानने के लिए देखें—Introduction to MS-Windows
Share it to: