Analog, Digital and Hybrid Computers in Hindi

Introduction to Analog, Digital and Hybrid Computers in Hindi

कार्यप्रणाली के आधार पर या उसमें प्रयुक्त प्रौद्योगिकी के आधार पर कम्प्यूटरों को निम्नलिखित तीन प्रकारों Analog, Digital, and Hybrid में वर्गीकृत किया गया हैं—

Analog Computer

Analog Computer वे Computer होते है जो भौतिक मात्राओ को मापते है। ये ताप, दाब, गति, लम्बाई, चौड़ाई आदि को मापकर उनके परिमाप को व्यक्त करते है। इनमें भौतिक मात्राओं के मापन का कार्य तुलना के आधार पर किया जाता है। इनका प्रयोग मुख्यत: विज्ञान, चिकित्सा और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में किया जाता है क्योकि इन क्षेत्रो में भौतिक मात्राओ का अधिक उपयोग होता हैं। थर्मामीटर, स्पीडोमीटर, घड़ी आदि एनालाग कम्प्यूटर के उदाहरण है।

Digital Computer

Digital Computer वे Computer होते है जो अंको की गणना करते है। इसमें सभी प्रकार के इनपुट व आउटपुट अंको के रूप में होता है जो Machine या Binary Code (0, 1) कहलाता है। Digital Computer सर्वाधिक प्रयोग में आने वाले कम्प्यूटर है। इनका प्रयोग घर, दुकान, स्कूल, कालेज, आफिस, रेलवे, बैंक आदि सभी स्थानों पर किया जाता है। डेस्कटाप, लैपटाप, टेबलेट, स्मार्टफोन, कैल्कुलेटर, डिजिटल घड़ी आदि डिजिटल कम्प्यूटर के उदाहरण है।

Hybrid Computer

Hybrid Computer वे Computer होते है जिनमें एनालाग और डिजिटल दोनों कम्प्यूटर की विशेषताएँ होती है। अर्थात् ये कम्प्यूटर भौतिक मात्राओं को मापने के साथ-साथ अंको की गणना करने में भी सक्षम होते है। उदाहरण के लिए किसी अस्पताल में लगा कम्प्यूटर हाईब्रिड कम्प्यूटर होता है जो मरीज के तापमान, ब्लड प्रेशर, धड़कन, आदि को मापकर अंको में व्यक्त करता है। इसी प्रकार पेट्रोल पम्प में लगा मशीन भी एक हाईब्रिड कम्प्यूटर होता हैं जिसका एनालाग भाग पेट्रोल की मात्रा को मापता है और डिजिटल भाग इसे अंको में प्रदर्शित कर मूल्य की गणना करता है।

Difference Between Analog and Digital Computers

Analog और Digital कम्प्यूटरों में मुख्य अंतर उनकी Technology व Mechanism का है। एक ओर जहाँ एनालाग कम्प्यूटर का कार्य भौतिक मात्राओं को मापना और उसकी माप को हमें सूचित करना होता है वहीं दूसरी ओर डिजिटल कम्प्यूटर का कार्य विभिन्न प्रकार के आंकिक व तार्किक गणनाओं को करना होता है। डिजिटल कम्प्यूटर घरों, कार्यालयों, दुकानों आदि में सभी प्रकार के सामान्य उद्देशीय कार्यो को करने के लिए प्रयोग में लाए जाते है जबकि एनालाग कम्प्यूटर सामान्यतः विज्ञान और इंजीनियरिंग से संबंधित विशेष कार्यो को करते है। Analog और Digital कम्प्यूटर के मध्य एक अन्य महत्वपूर्ण अंतर यह है कि एनालाग कम्प्यूटर कभी भी पूर्णतः शुद्ध परिणाम नहीं देता है। यह सदैव तुलनात्मक परिणाम देता है जो शुद्धता के करीब होता है जबकि डिजिटल कम्प्यूटर सदैव शत् प्रतिशत् शुद्ध परिणाम देता है। इन दोनों प्रकार के कम्प्यूटरों के मध्य अंतर को हम निम्नलिखित टेबल से अच्छे से समझ सकते है—

Difference between Analog and Digital Computer in Hindi
Fig. Difference between Analog and Digital Computer in Hindi

I-Facts (Interesting Facts about Analog, Digital and Hybrid Computers)

  1. Atanasoff Berry Computer जिसे संक्षिप्त में ABC कहा जाता है यह दुनिया का सबसे पहला Electronic Digital Computer है। इसका निर्माण Atanasoff और Cliford Berry दोनो ने मिलकर किया था।
  2. ENIAC – Electronic Numerical Integrator and Calculator दुनिया का सबसे पहला General Purpose Fully Electronic Digital कम्प्यूटर था जिसमें प्रोग्राम स्थायी रूप से स्टोर होते थे। इसका निर्माण J.P. Eckert और John Mouchly ने मिलकर किया था।
  3. हम अपने दैनिक जीवन में जिस कम्प्यूटर का प्रयोग करते है वह सामान्तः एक Digital Computer होता है जिसे Micro Computer या Personal Computer भी कहा जाता है। इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए यह पोस्ट देखे—Personal Computer (PC)
Share it to:

Published by

admin

I am a computer teacher, programmer and web developer