Interprocess Communication in operating system in Hindi- इंटरप्रोसेस कम्यूनिकेशन क्या होता है

What is Interprocess Communication in operating system in Hindi, Interprocess Communication in OS in Hindi: Interprocess Communication किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम का एक बहुत ही महत्वपूर्ण mechanism होता है जिसकी मदद से computer की विभिन्न process एक दूसरे के साथ communication कर सकती हैं. इस communication में एक process शामिल हो सकती है जिससे किसी process को पता चल सके कि कुछ event हुआ है या फिर एक process से दूसरी process में डाटा ट्रान्सफर हो चुका है.

Interprocess Communication operating system in Hindi

Inter-Process Communication का उपयोग इसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम में एक या एक से अधिक process में या program की कई थ्रेड्स के बीच उपयोगी जानकारी को exchange करने के लिए किया जाता है. एक कंप्यूटर पर एक समय पर कई सारी process चलती रहती हैं ऐसे में Inter-Process Communication जरूरत पड़ने पर इन process के बीच information को Communicate करने की अनुमति प्रदान करता है

approaches for Inter-Process Communication in Hindi

  • Pipes
  • Shared Memory
  • Message Queue
  • Direct Communication
  • Indirect communication
  • Message Passing
  • FIFO

Pipes

पाइप एक  डेटा चैनल होता है जो कि  unidirectional  है। इसका मतलब यह है कि एक बार इस तरह के data channel में एक बार में डेटा को एक ही डायरेक्शन में ले जाया सकता है. इसका मतलब यह है कि दोनों डायरेक्शन में डेटा को भेजने के लिए इस तरह के दो data channel उपयोग किया जाता है. जिससे कि वह दो process के बीच डाटा का Communication कर सके. आपको बता दें कि यह input और output के लिए standard methods का उपयोग करता है. इस तरह के Pipes का उपयोग windows और  सभी प्रकार के POSIX systems में किया जाता है.

Shared Memory:-

यह एक ऐसी memory होती है जिसे एक से ज्यादा process एक साथ उपयोग कर सकती है. इस momory का इसलिए उपयोग किया जाता है ताकि processes एक दुसरे से communicate कर सकें. Shared Memory सभी ऑपरेटिंग सिस्टम जैसे windows और लगभग सभी POSIX OS में इस्तेमाल की जाती है.

Message Queue:-

Message Queue में बहुत processes मेसेज को read और right कर सकती हैं. message queue में messages स्टोर हो जाते है और तब तक queue में ही रहते हैं जब तक कि recipients इसे retrieve न करें. सीधे शब्दों में कहें तो inter-process communication में Message Queue बहुत ही मददगार साबित होती है और इसका उपयोग सभी operating systems में किया जाता है.

Message Passing:-

Message Passing ऑपरेटिंग सिस्टम में एक ऐसा mechanism होता है जो कि processes के बीच synchronize and communicate करने की अनुमति प्रदान करता है. पासिंग मैसेज की मदद से process बिना hared variables को restoring (पुनर्स्थापित) बिना communication कर सकती हैं.

FIFO

यह दो unrelated processes के एक तरह का सामान्य communication होता है. आपको बता दें कि यह communication, full-duplex भी हो सकता है. जिसका मतलब यह है कि एक process दूसरी process से communication कर सकती है.

Socket

Socket जो कि नेटवर्क में डाटा को receiving और sending करने के लिए endpoint की तरह काम करता है. Socket का इस्तेमाल कई तरह के operating systems में किया जाता है.

 यह एक ही कंप्यूटर पर processes के बीच डाटा भेजने और एक ही नेटवर्क पर अलग-अलग computers के बीच डाटा भेजने के लिए एक दम सही होता है.

File:

फाइल एक डाटा रिकॉर्ड या डाक्यूमेंट्स जो डिस्क पर स्टोर होता है जिसे डिमांड file server के द्वारा acquired किया जा सकता है. सबसे खास बात यह है कि एक ही file को जरूरत पड़ने पर कई processes के द्वारा access किया जा सकता है.

Signal

जैसा कि इसके नाम से स्पष्ट होता है कि Signal जो inter process communication में उपयोग होते हैं. यह सिस्टम के messge होते है जो कि एक process से दूसरी process को भेजे जाते हैं. यह signal डेटा को send करने के काम नहीं आते बल्कि इससे process के बीच commands भेजी जाती है.

Also Read: what is the operating system in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *